स्‍वामी दयानन्‍द सरस्‍वती भारत के महान समाज सुधारक थे इन्‍होंने आर्य समाज की स्‍थापना की थी तो आइये जानते हैं स्‍वामी दयानन्‍द सरस्‍वती का जीवन परिचय -

 

  1. स्‍वामी दयानन्‍द सरस्‍वती  जी  12 फरवरी, 1824 को गुजरात  में जन्‍मे  थे 
  2. इनके पिता करशनजी लालजी तिवारी और मा यशोदाबाई था
  3. इनके बचपन का नाम मूलशंकर था 
  4. सरस्‍वती जी सबसे पहले स्‍वराज्‍य की लडाई शुरू की थी
  5. “भारतीयों का भारत” नारा स्‍वामी जी ने ही दिया था 
  6. स्‍वामी जी को बचपन मे भगवान के लिए बहुत आस्‍था थी  
  7. स्‍वामी दयानन्‍द सरस्‍वती जी के गुरू स्वामी विरजानंद  थे
  8. उनके मन में चौदह वर्ष की आयु में मूर्तिपूजा के प्रति इनके मन में विद्रोह हुआ था
  9. गुरू की आज्ञा से स्‍वामी जी ने हरिद्वार मे जाकर ‘पाखण्ड खण्डिनी पताका’ फहराई और मूर्ति पूजा का विरोध भी किया। 
  10. संस्कृत में लिखित ग्रन्थों का हिन्दी में अनुवाद स्‍वामी जी ने किया था
  11. स्‍वामी जी ने धर्म परिवर्तन कर चुके लोगों को दोबारा हिंदू बनाया और उन्रे प्रेरणा देकर शुद्धि आंदोलन चलाया 
  12. इन्‍होंने जातिवाद और बाल-विवाह का विरोध किया।
  13. स्‍वामी जी का देहान्‍त 1883 को दीपावली के दिन हो गया था

 

Previous

Next

दोस्तों,आप सभी को जनरल नॉलेज कैसी लगी,आप आपने कमेंट के माध्यम से हमें बताये। और BhartiyaExam को अपने दोस्तों,व्हाट्सप ग्रुप,फेसबुक पर अधिक से अधिक शेयर करे। धन्यवाद।



Comments

  • {{commentObj.userName}}, {{commentObj.commentDate}}

    {{commentObj.comment}}


LEAVE A COMMENT

Note: write a valuable comment!

पुरस्कार जी के
भारतीय पुरस्कार भारत रत्न, बुकर पुरस्कार, पद्म भूषण सामान्य ज्ञान
पुरस्कार भारत रत्न, बुकर पुरस्कार, पद्म भूषण सामान्य ज्ञान
खेल-कूद जी के
अंतरराष्ट्रीय, भारतीय खेल,क्रिकेट,फुटबॉल,टेनिस,हॉकी और अन्य खेलों सामान्य ज्ञान
अंतरराष्ट्रीय, भारतीय खेल ,क्रिकेट,फुटबॉल,टेनिस,हॉकी और अन्य खेलों सामान्य ज्ञान
बैंक जी के
भारतीय बैंकों के सामान्य ज्ञान
बैंक सामान्य ज्ञान
इतिहास जी के
भारतीय इतिहास की सामान्य ज्ञान
इतिहास की सामान्य ज्ञान