uttar pradesh ki geography in hindi


उत्तर प्रदेश प्रारंभिक भौगोलिक परिचय

  • उत्तर प्रदेश की लम्बाई और चौड़ाई क्रमश: 650 किमी, 240 किमी है।
  • पूरे भारत में उत्तर प्रदेश का क्षेत्रफल 33 प्रतिशत है।
  • उत्तर प्रदेश को 8 राज्यों एवं एक केन्द्रशासित राज्य की सीमाएं स्पर्श करती हैं।
  • उत्तर प्रदेश के उत्तर में शिवालिक पर्वत श्रेणी का विस्तार है।
  • उत्तर प्रदेश के दक्षिण में विन्ध्य पर्वत श्रेणी का विस्तार है।
  • गोंडवाना लैंड उत्तर प्रदेश की प्राचीनतम भू-खण्ड का एक भाग है।
  • उत्तर प्रदेश के दक्षिण में स्थित पठारों का निर्माण विन्ध्य क्रम की शैलों से हुआ।
  • गंगा-यमुना मैदान में नवीन कॉप निक्षेपों को खादर कहा जाता है।
  • गंगा-यमुना मैदान में प्राचीन कॉप निक्षेपों को बांगर कहा जाता है।
  • तराई क्षेत्र का वह उत्तरी भाग, जहां ककड़-पत्थर और मोटे बालू के निक्षेप मिलते हैं, उन्हें भॉंवर क्षेत्र कहा जाता है।
  • तराई क्षेत्र की भूमि समतल, नम, दलदली होती है।
  • उत्तर प्रदेश का विशाल मैदानी क्षेत्र यमुना और गंडक नदियों के मध्य अवस्थित है।
  • बीहड़ों का निर्माण चम्बल और यमुना नदियों के किनारों पर हुआ है।
  • बुंदेलखंड पठार की औसत ऊंचाई 300 मीटर है।
  • प्रसिद्ध विन्डम जल प्रपात मिर्जापुर में है।
  • चम्बल बेतवा और केन यमुना नदी में दाहिने की छोर पर मिलती हैं
  • भारत में मृदा अवनालिका क्षरण से सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्र चम्बल घाटी है।

जलवायु एवं मौसम (Climate and Season)

  • उत्तर प्रदेश की जलवायु समशीतोष्ण उष्ण कटिबंधीय है।
  • ग्रीष्म ऋतु में प्रदेश के दक्षिणी भाग में अधिक तापमान होने का   प्रमुख कारण कर्क रेखा का नजदीक होना है।
  • ग्रीष्मकाल में प्रदेश में चलने वाली शुष्क पछुआ हवाओं को लू कहा जाता है।
  • प्रदेश में बंगाल की खाड़ी वाले मानसून को पूर्वा के नाम से जाना जाता है।
  • प्रदेश में बंगाल की खाड़ी के मानसून का प्रवेश पूर्व तथा दक्षिण पूर्व दिशा से होता है।
  • प्रदेश में होने वाली सम्पूर्ण वर्षा का 75 से 85 प्रतिशत वर्षा, बंगाल की खाड़ी वाले मानसून से होती है।
  • प्रदेश में सर्वाधिक वर्षा पूर्वी मैदान के तराई क्षेत्र में होती है।
  • प्रदेश में शीतकाल और ग्रीष्मकाल में चक्रवाती और संवहनीय वर्षा होती है।

 

मृदा एवं खनिज – Soil and Minerals

  • भांवर क्षेत्र की मृदा कंकरीली-पथरीली होती है।
  • गंगा के विशाल मैदानका निर्माण प्लीस्टोसीन युग से आज तक नदियों के निक्षेपों से हुआ है।
  • उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा जलोढ़ मिट्टी के पायी जाती है।
  • नवीन एवं प्राचीन जलोढ़ मृदा को खादर, बांगर के नाम से जाना जाता है।
  • जलोढ़ मृदा का निर्माण कांप, कीचड़ और बालू से हुआ है।
  • जलोढ़ मृदा में पोटाश एवं चूना (रसायन) की प्रचुरता रहती है।
  • जलोढ़ मृदा में फॉस्फोरस, नाइट्रोजन एवं जैव तत्व की कमी रहती है।
  • मृदा के खनिज, जैव पदार्थ, जल तथा वायु चार प्रमुख घटक हैं।
  • लवणीय एवं क्षारीय मृदा को सामान्यत: ऊसर या बंजर या कल्लर या रेह के नाम से जाना जाता है।
  • विन्ध्य शैलों के टूटने से लाल मृदा का निर्माण हुआ।
  • प्रदेश में मरुस्थलीय मृदा कुछ पश्चिमी जिलों में पायी जाती हैं।
  • लाल, परवा, मार, राकर, तथा भोण्टा आदि बुंदेलखंड की मुद्राएं हैं।
  • उत्तर प्रदेश जलीय अपरदन का मृदा अपरदन अधिक होता है।
  • परत अपरदन को ‘किसान की मौत’ कहा जाता है।
  • प्रदेश का इटावा जिला अवनलिका अपरदन से अधिक प्रभावित है।
  • ग्रीष्म ऋतु में सर्वाधिक वायु अपरदन होता है।
  • पश्चिमी उत्तर प्रदेश, प्रदेश में वायु अपरदन से सर्वाधिक प्रभावित है।

जलीय संसाधन एवं नदियाँ (Water resource and rivers)

  • प्रदेश के मैदानी भाग में समान्तर अपवाह तंत्र पाया जाता है।
  • उद्गम स्रोतों के आधार पर प्रदेश में तीन प्रकार की नदियां पायी जाती है।
  • भागीरथी और अलकनंदा नदियों का मिलन देव प्रयाग में है।
  • काली का उद्गम स्थल मिलम हिमनद में है।
  • गंगा से रामगंगा बायीं ओर से, कन्नौज के पास मिलती है।
  • गंगा उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले में प्रवेश करती है और जिला बलिया से बाहर निकलती है।
  • यमुना उत्तर प्रदेश के फैजाबाद (सहारनपुर) में सर्वप्रथम प्रवेश करती है।
  • रामगंगा प्रदेश के कालागढ़ (बिजनौर) पर सर्वप्रथम प्रवेश करती है।
  • घाघरा (करनाली) का उद्गम स्थल मापचा चुंगों है।

प्राकृतिक संपदा – Natural Resources

  • राज्य के 10 जिलों को खनिज बाहुल्य क्षेत्र घोषित किया गया है।
  • उत्तर प्रदेश राज्य खनिज विकास निगम की स्थापना 1974 में की गयी थी।
  • राज्य में यूरेनियम ललितपुर में पाया जाता है।
  • चूने पत्थर के भंडार में देश में उत्तर प्रदेश का दूसरा स्थान है।
  • कांच-बालू के उत्पादन में उत्तर प्रदेश का पहला स्थान है।
  • प्रदेश के हमीरपुर जिले में ग्रेफाइट के प्रमाण मिले हैं।
  • प्रदेश के मिर्जापुर का कजराहट व रोहतास क्षेत्र चूना पत्थर के लिए प्रसिद्ध है।

वनस्पति संपदा – Flora

  • राज्य के कुल वन क्षेत्र का 97 प्रतिशत खुला, 31.70 प्रतिशत सघन एवं 11.30 प्रतिशत सघन वन क्षेत्र है।
  • प्रदेश में सोनभद्र जिले के कुल क्षेत्रफल का 43 प्रतिशत वन क्षेत्र है।
  • प्रदेश के संत रविदास नगर जिले में सबसे कम भू-भाग में वन क्षेत्र है।
  • सर्वाधिक वन प्रतिशत वाले पांच जिले घटते क्रम में इस प्रकार हैं – सोनभद्र, चंदौली, पीलीभीत, मिर्जापुर और चित्रकूट।
  • सबसे कम प्रतिशत वाले जिले भदोही, संतकबीर नगर, मऊ, मैनपुरी व देवरिया हैं।
  • प्रदेश में अति सघन वन क्षेत्र का सर्वाधिक क्षेत्रफल खीरी जिले का है।
  • खुले वन क्षेत्र का सर्वाधिक क्षेत्रफल सोनभद्र जिले का है।
  • वृच्छादन में देश में उत्तर प्रदेश का चौथा स्थान है।
  • सामान्यत: उत्तर प्रदेश में उष्णकटिबन्धीय वन पाये जाते हैं।
  • प्रदेश में सामाजिक वानिकी योजना 1976 में शुरू की गयी।
  • सामाजिक वानिकी शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग बेस्टोबाय ने किया।
  • प्रदेश में जड़ी-बूटी एवं तेंदु पत्ते का संग्रहण उत्तर प्रदेश वन निगम द्वारा कराया जाता है।
  • सामाजिक वानिकी का यूकेलिप्टस वृक्ष भूमि के लिए घातक है।
  • राज्य सरकार द्वारा भारतीय वन अधिनियम 1977 को संशोधित कर भारतीय वन (उ.प्र. संशोधन)अधिनियम 2000 वर्ष 2001 में लागू किया गया।
  • उत्तर प्रदेश की प्रथम वन नीति 1952 में और द्वितीय वन नीति 1998 में घोषित की गयी।

 




Previous

Next


Hello Friends, How do you like Bhartiya Exam? kindly tell us through your comment. Send your suggestion how to imporve BhartiyExam more. Share Bhartiya Exam with your friends, WhatsApp Group, Facebook, Gmail, Google Plus. Thank you.
दोस्तों,आप सभी को BhartiyaExam कैसी लगी,आप आपने कमेंट के माध्यम से हमें बताये, BhartiyaExam को अपने दोस्तों के साथ,व्हाट्सप ग्रुप,फेसबुक पर अधिक से अधिक शेयर करे। धन्यवाद।



LEAVE A COMMENT

Note: write a valuable comment!

Comments

{{commentObj.comment}}

{{commentObj.userName}}

{{commentObj.commentDate}}



Tag


uttar pradesh ki geography in hindi