पारिभाषिक शब्द वेद का अर्थ है " ज्ञान" होता है | वैदिक साहित्य, आर्य और वैदिक काल के बारे में ज्ञान का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत हैं | साहित्य की कई सदियों के दौरान वृद्धि हुई है और पीढ़ी दर पीढ़ी को मुंह के वचन द्वारा सौंपी गयी जिससे श्रुति भी कहा जाता है| यहाँ वैदिक साहित्य की सूची है जो यूपीएससी, एसएससी, सीडीएस, एनडीए, राज्य सेवाओं, और रेलवे आदि जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण है|.

 

वैदिक साहित्य की सूची

साहित्य

विवरण

ऋग्वेद

  • 1500-1000 ईसा पूर्व के आसपास संकलित  BC
  • 'रिग' का शाब्दिक अर्थ 'प्रशंसा करने के लिएहै
  • भजन का एक संग्रह
  • अध्यायों  को मंडल कहा जाता है
  • मंडल तृतीय में गायत्री मंत्र हैं  जो सूर्य देवता सावित्री की प्रशंसा में संकलित किया गया है।
  • नौवीं मंडल में भजन हैं जिसे पुरुषसूक्त कहा जाता है जहां वर्ण व्यवस्था पर चर्चा की है
  • ऋग्वेद में विशेषज्ञ ऋषि को होत्र या होत्री कहा जाता था
  • इसकी जेंद -अवेस्ता के साथ बहुत सी आम बातें है, जो ईरानी भाषा में सबसे पुराना पाठ हैं|

सामवेद

  • गीतों का संग्रह और बहुत से गाने ऋग्वेद के भजन से लिए गए है
  • सामवेद के विशेषज्ञ को उगत्री बोला जाता हैं
  • संकलन ने भारतीय संगीत की नींव रखी

यजुर्वेद

  • बलि फार्मूले का संग्रह
  • मंत्र का सस्वर पाठ के समय में अपनाई जाने वाली अनुष्ठान का वर्णन करता है।
  • अध्यर्यु यजुर्वेद के ज्ञान के विशेषज्ञ थे।
  • इसमें दोनों गद्य और कविता शामिल हैं
  • यह दो भागों में बांटा गया है - कृष्णा यजुर वेद और शुक्ला यजुर्वेद

अथर्ववेद

  • आकर्षण और मंत्र का संग्रह
  • इसमें रोगों से राहत पाने के लिए जादुई भजन होते है
  • भारतीय औषदि विज्ञान अर्थात आयुर्वेद का स्रोत अथर्ववेद से है

ब्राह्मण

  • वैदिक भजन, आवेदन पत्र, और उनके मूल की कहानियों के अर्थ के बारे में विवरण शामिल हैं
  • ऐतरेय या कौशिकति ब्राह्मण के ब्यौरा के लिए ऋग्वेद में आवंटित किए गए थे
  • तान्या और जमीनिया ब्राह्मण को सम वेद  में ब्योरे करने के लिए
  • ब्यौरा के लिए तैत्रीय और शतपथ ब्राह्मण यजुर्वेद के लिए
  • गोपथब्रह्म का ब्यौरा के लिए अथर्ववेद को

आरण्यकस

  • इसका मतलब है कि वन|
  • तपस्वी और वेदों के छात्रों के लिए जंगलों में लिखा है।
  • भौतिकवादी धर्म से आध्यात्मिक धर्म में एक बदलाव की शुरूआत की। इसलिए, वे एक परंपरा है जो उपनिषदों में गठित हो गयी
  • वे वेदों और उपनिषदों सह ब्राह्मणों के बीच एक पुल की तरह हैं|

उपनिषद

  • वैदिक साहित्य के अंतिम चरण
  • तत्वमीमांसा अर्थार्त दर्शनशास्त्र  में सौदा
  • इसको  वेदांता भी बुलाया जाता है
  • आत्माब्राह्मणपुनर्जन्म और कर्म के सिद्धांत के बारे में विषय होते हैं
  • ज्ञान की राह पर बल देता है
  • उपनिषदों की शाब्दिक अर्थ 'पैरों के पास बैठने के लिए है'
  • महत्वपूर्ण उपनिषदों - चंडोज्ञ उपनिषदबृहदअरण्यक उपनिषद,कथा उपनिषदईशा उपनिषदपरसना उपनिषदमुंडका उपनिषदों
  • यम और नचिकेता की बातचीत या विषय वस्तु कथा उपनिषद है
  • राष्ट्रीय प्रतीक में सत्यमेव जयते मुंडका उपनिषद से लिया जाता है|

वेदनगस

  • वेदों के अंग के रूप में जाना जाता है
  • सूत्र अवधि के दौरान संकलित। इसलिए यह सूत्र साहित्य कहा जाता है, जिनकी संख्या छह हैं:
  1. शिक्षा - उच्चारण के विज्ञान के फोनेटिक्स
  2. कल्प - रस्में और समारोहों
  3. व्याकरण- व्याकरण
  4. निरुक्त - व्युत्पत्ति (शब्दों की उत्पत्ति)
  5. छन्द - मेट्रिक्स, काव्य रचना के नियम
  6. ज्योतिष्य - ज्योतिष-शास्र

Previous

Next


दोस्तों,आप सभी को BhartiyaExam कैसी लगी,आप आपने कमेंट के माध्यम से हमें बताये, BhartiyaExam को अपने दोस्तों के साथ,व्हाट्सप ग्रुप,फेसबुक पर अधिक से अधिक शेयर करे। धन्यवाद।



Comments

  • {{commentObj.userName}}, {{commentObj.commentDate}}

    {{commentObj.comment}}


LEAVE A COMMENT

Note: write a valuable comment!

भूगोल जी के
भारतीय भूगोल, सामान्य ज्ञान
भूगोल सामान्य ज्ञान
भूगोल जी के
भारतीय भूगोल, सामान्य ज्ञान
भूगोल सामान्य ज्ञान
भूगोल जी के
भारतीय भूगोल, सामान्य ज्ञान
भूगोल सामान्य ज्ञान
भूगोल जी के
भारतीय भूगोल, सामान्य ज्ञान
भूगोल सामान्य ज्ञान